Saturday, June 21, 2014

न यंहा सुकूँ है न वहां चैन
मैं खुद को खोती जा रही हूँ ़ ़

शायद कभी खुद को पाया भी था 
Text selection Lock by Hindi Blog Tips