Friday, October 26, 2012

मृत्युंजय - एक चरित्र, अनंत कहानी

कर्ण ! अब ये मेरे लिए एक नाम या महाभारत का एक चरित्र मात्र  नहीं रह गया है। 

आज मृत्युंजय  उपन्यास पूरा हुआ। किसी भी कार्य के शुरू होने से उसके पुरे होने की भी एक कहानी होती है। लेकिन आज वह नहीं। यूँ तो विचारों के कई बुलबुले जैसे  कई दिशाओं में फेल गए हैं , लेकिन मैं मात्र एक को लेकर चलूंगी। अब , आखिर, अब भटकना उचित नहीं। 

पांच पांडव या कर्ण  - इनमे से कौन श्रेष्ठ है? ये सवाल नहीं, ये विचारों का जाल है। श्रेष्ठता को सिद्ध करना इतना आसान नहीं और वो करने वाली मैं कुछ भी नहीं - - - लेकिन - - - कर्ण श्रेष्ठ है--- और अगर है तो उसकी श्रेष्ठता का कारण क्या है - - - 

कर्ण का जीवन भयंकर संघर्षमय रहा और यह उपन्यास शत-प्रतिशत उसके संघर्षों को प्रकट करने में सफल रहा है। कर्ण की श्रेष्ठता के कुछ बिंदु जग-जाहिर हैं -वह महा-पराक्रमी , महावीर, अर्जुन से भी कुशल योद्धा था, उसकी ख्याति दिग्विजय कर्ण की जगह दान-वीर कर्ण के कारन हुई, लेकिन इससे भी श्रेष्ठ गुणों से वह युक्त वीर था - वह था - स्थिर बुद्धि, वचन-बद्धता। इसे ही कृष्ण ने आदर्शवादिता कहा है और इसीलिए उन्होंने कर्ण की जगह पांच पांडव को चुनने का बहुत मुश्किल निर्णय लिया। लेकिन इन्ही दो गुणों के कारन कर्ण किसी भी  पांडवों से  सौ गुना श्रेष्ठ है और पांडवों का जयेष्ट भात्र  कहलाने योग्य है। 

संघर्ष -शील , पथ-भ्रष्ट , शापित, परन्तु सत्यान्वेषी, स्थिर-बुद्धि, और एक परम भक्त कर्ण। सुर्यपुत्र  कर्ण की विलक्षणता का परिचय प्रारंभ से उसके कवच्कुंदल के अतिरिक्त इस प्रश्न  से मिलता है  - "मैं कौन हूँ". स्वयम के सत्य को जानने की प्रबल इच्छा। कर्ण की विलाक्षन्त्ता का अद्भुत प्रमाण है - दान देने का प्राण। जिसके चलते उसने अपने कवच-कुंडल इंद्र को दे डाले और मृत्यु-शैय्या पर सोने के दो दांत भी दिए। यह अद्भुत नहीं तो और क्या है, क्या यह सबके बस की बात है? 

सबसे अधिक प्रशंसनीय है उसकी कृतज्ञता जो उसने दुर्योधन का साथ अंतिम क्षण तक निभा कर की। वह यह जानता था की वह पथ-भ्रष्ट हो चूका है, फिर भी उसी पथ पर टिका रहा, लेकिन ससम्मान। यही महत्वपूर्ण है। जो रास्ता आपने चुना है, फिर चाहे धरती ही क्यूँ न हिल जाये , कितनी ही बड़ी विपत्ति क्यूँ न आ जाये, उस पर टिके रहना लेकिन इस प्रकार की आपका सम्मान सुरक्षित रहे। क्यूंकि सम्मान के बिना व्यक्ति उतना ही ठूंठ  है जितना पत्तियों, फूलों के बिना पेड़। 

महाभारत महान पराक्रमी विलक्षण अद्वितीय महा पुरुषों की कहानी है , जिसमे स्वयम भगवन श्री कृष्णा भी एक पात्र हैं। रचनाकार ने जगह जगह एक ही बात दुहराई है, बड़े लोगों के दुःख भी बड़े होते हैं। साथ ही एक और बात जो इस उपन्यास की बहुत बहुत ख़ास है - की मानव रूप में ये देव रुपी महापुरुष भी परिस्थितियों के सामने उतने ही दीन-हीन देखते हैं , जितने की हम जैसे आम  इंसान। सत्य जानने  वाले पितामह भीष्म, यहाँ तक की श्री कृष्ण जिन्होंने स्वयम माया रची है, उनके सम्मुख भी एक क्षण आता है जब वे निर्णय न कर पाने की स्तिथि में होते हैं, वे भी संभ्रांत होते हैं।

 ये देव गुणों वाले ऐसे मानवो की कहानी है जिसमे  सत्यान्वेषी पुरुष सत्य के लिए लड़ते हैं, धर्म के लिए आवाज़ उठाते हैं, कर्म करने को तत्पर रहते हैं,  भ्रमित भी होते हैं, और संघर्षों के मध्य अपने - अपने रास्ते का चुनाव करके लक्ष्य निर्धारित कर उस तक पहुँचने की कोशिश करते है--- क्या हमारी भी कहानी कुछ ऐसी ही नहीं  है?  

2 comments:

  1. इस किताब पर मैंने भी अपने विचार रखे थे, लगभग सवा साल पहले. मौका मिले और मन करे तो पढियेगा.
    http://prashant7aug.blogspot.in/2011/03/blog-post_14.html

    ReplyDelete
  2. Taken me on a soul searching journey! Captivating thoughts!

    ReplyDelete

Text selection Lock by Hindi Blog Tips