Tuesday, September 14, 2010

क्या तुम्हे नहीं लगता
बढ़ता ही जा रहा है ये प्रेम दरिया
या कि जैसे
बसंत अब मुस्कुरा रही हो शीत में भी ?

*****

क्यों मैं देखने लग गयी हूँ बताओ
तुम्हारी ही सूरत में
मेरे अजन्मे बेटे कि मासूमियत? 

*****


2 comments:

  1. क्यूँ मैं देखने लगी हूँ तुममे अजन्मे बेटे की मासूमियत ...
    वाह !

    ReplyDelete
  2. दूसरा वाला तो बेहद अच्छा था..
    यूँ ही लिखतीं रहिये...

    ReplyDelete

Text selection Lock by Hindi Blog Tips