Thursday, August 25, 2011

रूह

कितना गहरा और उज्जवल 
शब्द है यह 
- रूह!
ऐसा लगता है,
जैसे , 
हवा से भी हल्का
एक सफ़ेद जिन्न
शरीर से मेरे निकल कर 
इस कठोर धरती को चीरता हुआ
किसी खोज में निकल पड़ा हो...                                                      
एक अनंत खोज में...                                                                

2 comments:

  1. वाह ओजसी,
    रूह की बेहद सुन्दर परिभाषा !!!

    ReplyDelete

Text selection Lock by Hindi Blog Tips