Monday, March 21, 2016

हर बार की तरह

ये शरारत 
अच्छी नहीं तुम्हारी 

हर बार की तरह 
इस बार कहना न,
"तुम्हारा दिल रखने के लिए ,
बस यूँ ही  ... "

No comments:

Post a Comment

Text selection Lock by Hindi Blog Tips