Wednesday, February 15, 2012

सच्चा सुख और सृजन

जीवन के एक सूत्र को भी किसी माध्यम से जाहिर कर देने में कितना सुख है.
सच्चा सुख और सृजन दो अलग बातें हो ही नहीं सकती.
चाहे किसी कला के माध्यम से सृजन हो
या प्रेम में अभूतपूर्व क्षणों का सृजन हो
हमेशा सृजन में सच्चा सुख छिपा होता है.

4 comments:

  1. कितनी सुस्पष्ट,और गहन बात कितने कम शब्दों में प्रस्तुत कर दी...वाह...!



    कुँवर जी,

    ReplyDelete
  2. Srijan ka sukh janne wale ya to Matrutva bhav se prerit hote hai ya fir rachaita bhav se.

    ReplyDelete

Text selection Lock by Hindi Blog Tips